ROE meaning in Hindi | Return On Equity नही देखा, तो मत करना कंपनी के शेयर्स में इंवेस्ट्!

0

भारत में छोटे दफ्तरों में काम कर रहे कर्मचारी से लेकर, बड़ी-बड़ी कंपनियों के मालिकों तक, हर कोई अपने पैसों को स्टॉक मार्केट में इंवेस्ट् करने के बारे में ज़रूर सोचता है। 

परंतु, काफी लोग यह नही जानते की स्टॉक मार्केट से उनका पैसा दोगुना, तिगुना, चौगुना, तो हो सकता है पर इसके साथ ही उनका पैसा रातों रात डूब भी सकता है। 

अब दोस्तों, यह निर्भर करता है उस कंपनी पर जिसमे आपने अपना पैसा इंवेस्ट् किया है। क्या वह कंपनी, एक अच्छा मुनाफा कमा रही है? क्या वह कंपनी अपने निवेशकों को उनका प्रॉफ़िट देने मे शक्षम है? क्या वह कंपनी किसी प्रकार के कर्ज़ में तो नही?  

यह कुछ बातें हैं जिन्हें ध्यान में रखते हुए ही हमें यह निर्णय लेना होता है की हमें किस कंपनी में निवेश अर्थात इंवेस्ट् करना है। इन सभी चीजों के अलावा return on equity एक ऐसा पेरामेटर है 

जिसको देखे बिना कंपनी में इंवेस्ट् करना यानी की अपने पैसों को खुद ही डूबना। तो आईये, आज हम आपको बताएंगे की return on equity क्या है?, ROE meaning in hindi इससे कंपनी के स्टेट्स का अनुमान कैसे लगाया जा सकता है। तो इस आर्टिकल को आख़िर तक जरूर पढें। 

ROE meaning in Hindi  Return On Equity

Return on Equity क्या है? (ROE meaning in hindi)

ROE meaning in hindi किसी भी कंपनी में निवेश पर कितना रिटर्न मिला यह बताती है।

जैसा की हम सभी जानते हैं की इक्विटी एक प्रकार का शेयर है, और return का मतलब होता है हमारे द्वारा की गयी किसी चीज़ का परिणाम। 

तो आसान शब्दों में, return on equity का मतलब हुआ हमारे द्वारा किसी कंपनी में पैसें इंवेस्ट् किये जाने पर उससे मिलने वाला return या profit यानी की हमारी इंवेस्मेंट् का परिणाम। हर कंपनी का एक अपना return on equity होता है जो की एक ratio के रूप में देखा जाता है। 

यह हमे यह अनुमान लगाने में मदद करता है की कंपनी में इंवेस्ट् करके हमें कितने प्रतिशत तक का शेयर कंपनी के प्रॉफ़िट में से मिल सकता है। ज्यादा return on equity का मतलब होता है, ज्यादा प्रॉफ़िट। यानी की हम ज्यादा शेयर के हक़दार हैं। 

तो हमे यह बात ध्यान में रखनी चाहिए की जिस कंपनी में हम इंवेस्ट् कर रहे हैं उसका return on equity ज्यादा हो। अधिकांश लोग 25-30 प्रतिशत को एक अच्छा return on equity बताते हैं क्योंकि यह अन्य वित्तीय संस्थाओ के मुकाबले ज्यादा है और पर्याप्त है। 

Return On Equity के फ़ायदे

ROE हमारे द्वारा की गयी इंवेस्मेंट् का संभवतः प्रतिफल हमको बताता है। यह एक ऐसा पेरामेटर है जो की कंपनी की आर्थिक स्तिथि का अनुमान लगाते हुए, हमे यह भापने में सहायक साबित होता है की हमे किस प्रकार की कंपनी मे इंवेस्ट् करने से अधिकतम लाभ व न्युन्तम् हानि होगा। 

ऐसे जानिए किसी भी कंपनी का return on equity

  • किसी भी कंपनी में इंवेस्ट् करने से पहले उसका return on equity जानना एक महत्वपूर्ण कार्य है परंतु आपके मन में अब यह सवाल होगा की आख़िर किसी कंपनी का ROE क्या है यह हम कैसे जाने? तो आईये हम आपकी यह चिंता भी दूर करें। 
  • किसी भी कंपनी का ROE जानने के लिए सबसे पहले उसकी टोटल इन्कम देखनी होती है। 

ध्यान रहे टोटल इन्कम का मतलब है की टोटल प्रॉफ़िट। कंपनी द्वारा कमाए गए सारे पैसें इन्कम नही होती, क्योंकि उसमे से बाकी खर्चे भी पूरे करने होते हैं। 

तो आप केवल कंपनी का मुनाफा यानी की प्रॉफ़िट देखें। यह आपको कंपनी की वेबसाइट, न्यूज़ पेपर या फिर किसी भी financial magazine में मिल जायेगी। जैसे की Moneycontrol website

  • अब आपको कंपनी के टोटल शेयर्स देखने होंगे। यह जानकारी भी कंपनी की वेबसाइट पर या फिर किसी भी अखबार या मग़ज़िन मे होती ही है। टोटल शेयर्स का मतलब होता है की हर साल लगभग कितने प्रतिशत लोग कंपनी मे इंवेस्ट् करते हैं। 
  • इसके बाद बस टोटल प्रॉफ़िट को टोटल शेयर्स से divide करो और आपको return on equity की percantage मिल जायेगी। 
  • बस इसके बाद आपको यह देखना होता है की अन्य कंपनिया क्या ROE दे रही हैं या आपको इस कंपनी में इंवेस्ट् करना है की नही। 

इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए आपको उस कंपनी में इंवेस्ट् करना है जो आपको सबसे ज्यादा उचित और फायदेमंद लगे। 

कुछ जरूरी बातें?

कंपनी का मुनाफा देखते समय हमें इस बात का ध्यान रखना होता है की कही वह मुनाफा किसी गलत काम या फिर गैरकानूनी तरीके से तो नही कमाया गया है। क्योंकि, केवल मुनाफा ही जरूरी नही है, वह कहा से आया यह जानना अनिवार्य है। 

और क्योंकि equity शेयर खरीदने के बाद आप कंपनी के residual owners केहलाए जाओगे तो आपका यह जानना जरूरी है की कही कंपनी किसी प्रकार के लोन या ब्लैक मनी लेकर तो मुनाफा नही कमा रही।

अगर ऐसा है तो आप ऐसी कंपनी मे इंवेस्ट् कभी ना करें क्योंकि यह मुनाफा बेशक एक ज्यादा ratio वाले ROE को दर्षायेगा पर असल मे ऐसा ROE किसी काम का नही है तो ऐसी कंपनियों में इंवेस्ट् करने से बचें। 

निष्कर्ष

अंत में मैं आपको यही कहना चाहूँगी की किसी भी कंपनी में इंवेस्ट् करने से पहले उसके बारे में अच्छी तरह से रीसर्च कर लें और जान लें। यदि आप एक अच्छा पैसा चाहते हैं की आपको return के रूप मे प्राप्त हो तो किसी भी कंपनी मे इंवेस्ट् करने से पहले उसका ROE जरूर देख लें। 

और वह कैसे जेनेरेट हो रहा है यह भी देखना ना भूले। उमीद है आपको यह आर्टिकल जानकारीपूर्वक लगा होगा। ऐसे अन्य विषयों के बारे में जानने के लिए www.capitalgyan.com को subscribe करें और इस post पर कॉमेंट करें। 

धन्यवाद। 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Leave A Reply

Your email address will not be published.