SIP क्या है | SIP में निवेश कैसे करे | (What is Sip in hindi ? Investment in Sip)

1

नमस्कार दोस्तों, आज हम वापस आ चुके हैं आपकी भविष्य मे वित्त स्तिथि को मजबूत बनाये रखने के लिए एक और नई investment policy के साथ।  तो दोस्तों आज हम जानेंगे sip क्या है , sip full form , Sip meaning in hindi, sip in mutual fund.

हम आपको आये दिन अपनी वेबसाइट  www.capitalgyan.com पर अपने पैसों को सुरक्षित जगह कब और कैसे इंवेस्ट करें, यह बताते रहते हैं।

हम आपको shares, debentures, public provident fund, gold और bonds मे इंवेस्ट करने के बारे मे पूरी जानकारी दे चुके हैं।

अगर आपने वोह नही पढ़ी तो आप लिंक पर click करके वेबसाइट पर पहुँच कर उन्हे पढ़ सकते हैं। तो आज का topic होने वाला है Sip एक investment policy है

जो की निवेशको को उनके इंवेस्ट करने पर high return देती है और काफी लोग इसे लाभकारी मानते हैं जिससे यह आजकल काफी ज्यादा चर्चा का विषय बन चुकी है। तो आईये Sip क्या है और कैसे लाभकारी है जानते हैं डिटेल मे इस आर्टिकल मे। 

Sip क्या है? (Sip meaning in hindi) 

sip meaning in hindi

Sip की फुल फॉर्म होती है Systematic Investment Plan। यह plan या policy खास तौर पर उन लोगो के लिए बनाई गयी है जिनका कोई तय व्यापार या रोजगार नही है।

जैसे की housewives, labourers, vendors, इत्यादि। यह लोग जिनकी कमाई  का साधन फिक्स ना हो वो थोड़ा थोड़ा करके न्युन्तम् 500 रुपये से शुरुआत कर किसी भी समय अपने पैसे Sip के तहत जमा करवा सकते हैं।

इससे अन्य investment policies के मुकाबले इन लोगो पर लोड भी कम रहता है और बिना किसी ज्यादा परेशानी के इनका पैसा सुरक्षित भी हो जाता है। और यदि आप किसी बड़ी achievement के लिए Sip ले रहे हैं

तो भी आपको यह इस प्रकार फायदेमंद है की आपको कार या घर लेते वक़्त फंड्स त्यार मिलेंगे किसी प्रकार का लोन नही लेना होगा जिससे की आपका ब्याज जो लोन के साथ जाता है, बच जायेगा। 

कैसे करें Sip मे निवेश? (How to invest in Sip?) 

Sip मे इंवेस्ट करने के लिए आपको अपनी तरफ से कुछ करना है तो बस खाता खुलवाना। एक बार Sip के साथ अपने खाता खुलवा लिया, तो आपको funds decide करना होता है की हर महीने आप कितने रुपये तक निवेश (invest) करोगे और कितने समय के बाद करोगे।

उधारण के लिए: मान लीजिये की आपने Sip के साथ खाता खुलवाया। वोह आपसे ये पूछएंगे की आपको को अंत्राल (time period) के अंदर पैसे भरने हैं।

आपको यहाँ यह बताना होगा की आप कितने दिन या महीने या साल मे पैसे दोबारा देंगे। यह अवधि 1 माह से लेकर एक साल तक की भी हो सकती है।

इसके बाद आपको यह बताना होगा की आप कितनी या क्या राशि इस अंत्राल के बाद देना चाहोगे। ध्यान रहे, आपके द्वारा तय की गयी यह राशि फिर हर बार सामान मात्रा मे ही जायेगी।

एक बार यह राशि तय हो जाने के बाद आपको अपना Sip account अपने बैंक के एकाउंट के साथ लिंक करवाना होता है। जिसके बाद, आपका काम खतम होता है और Sip अपना काम चालू करती है।

अब हर बार जो आपको राशि देनी है वो direct आपके बैंक एकाउंट से कटकर आपके Sip account मे आ जाती है।

आपके Sip account का समय पूरा होने पर आपको बस यही सारी राशि वापिस मिल जाती है और आप एकदम से किसी भी बड़ी उपलब्धि को हासिल करने के बारे मे विचार कर सकते हैं। 

Sip मे इंवेस्ट करने के फायदे (Sip Benefits)

  1. Sip के साथ निवेश करने पर आप प्रत्येक माह या प्रत्येक साल एक फिक्स बड़ा अमाउंट जमा करने को मजबूर नही होते हैं। आप अपनी सहूलियत के अनुसार जितना चाहे उतना अमाउंट जमा कर सकते हैं और जितने चाहे उतने समय को तय कर उसी अवधि के बाद जमा करने को जिम्मेदार होते हैं। इसकी न्युन्तम् राशि 500 रुपये हैं जो की हर कीकोई व्यक्ति आसानी से जमा कर सकता है। 
  2. Sip का दूसरा फ़ायदा यह है की आप यदि किसी समय पर अपने द्वारा तय किया गया फंड जमा नही कर पाए है तो आप इसको स्किप (skip) भी कर सकते हैं। 
  3. Sip का फ़ायदा यह भी है की इसपर कोई टैक्स नही होता है। जी हाँ, आपको मिलेगी पूरी 100 प्रति शत् टैक्स मुक्ति। आपको इसकी अवधि पूरी होने पर जो पैसे मिलेंगे उसपर किसी प्रकार का कोई टैक्स नही लगाया जायेगा। 
  4. Sip का एक बेनेफिट यानी फ़ायदा यह भी है की इसपर compound interest चार्ज होता है। Compound interest का अर्थ यह है की आपकी राशि पर आपको interest मिलने के बाद अगली बार आपको interest मिलने के बाद वाली राशि पर मिलता है ना की आपके द्वारा दोबारा दिये गए पैसों पर। 

Sip मे इंवेस्ट कैसे करें? (How to invest in Sip?) 

अब अगर Sip के बारे मे पूरी तरह से जान लेने के बाद आपने इसमे इंवेस्ट करने का मैं बना ही लिया है

तो आपके लिए यह जानना भी बहुत जरूरी है की आखिर Sip मे इंवेस्ट करने के लिए क्या steps फॉलो करने हैं या किस तरीके से इसमे इंवेस्ट करना है। 

Sip मे इंवेस्ट करने के लिए सबसे पहले तो अपना जरूरतों को समझे। यह जानने की कोशिश करें की आखिर आपको यह फंड्स चाहिए किस लिए, या आपके long term goals क्या हैं? \

एक बार आप यह जान लें की आप किस purpose से investment कर रहे हैं तो फिर आपके लिए आगे का काम आसान हो जायेगा। 

अब दूसरा कार्य यह है की आपको देखना होगा की आपको कौनसे mutual fund मे इंवेस्ट करना है। मार्केट मे काफी सारी mutual fund schemes हैं जिनमे से आपको एक सेलेक्ट करनी है और इसके लिए आपका जिस भी फंड मे इंवेस्ट करना है उसका पोर्टफोलियो(portfolio) चैक करें।

यदि आपका नही पता की पोर्टफोलियो क्या है तो हम आपको बता दें की यह वोह document या statement है जिससे किसी कंपनी की वित्त स्तिथि का अनुमान लगाया जा सकता है। इसकी पूरी जानकारी हमने अपनी वेबसाइट पर डाली हुई है आप चाहे तो वह इसे देख सकते हैं। 

एक बार mutual fund कंपनी सेलेक्ट हो जाने के बाद आप अपनी सारी जानकारी और डिटेल्स जो भी वोह मांगे उनको दें और mutual fund account खुलवा लें। इसके बाद आप इनको अपना Sip का फॉर्म submit करें जिसमे आपके Sip से संबंधित सारी जानकारी होगी। 

इसके बाद आपको बस यह select करना होगा की आपकी Sip का investment amount और Investment Time Period जिसके बारे मे हम पहले भी बात कर चुके हैं वोह क्या होगा। बस एक बार यह सब decide हो जाने के बाद आप आसानी से किसी भी बड़ी चीज मे इंवेस्ट कर सकते हैं। 

निष्कर्ष:

आज हमने यह जाना की Sip क्या है। उम्मीद है आप अच्छे से इस बारे मे जान गए होंगे। आगे ऐसे ही और investment schemes के बारे मे जानने के लिए हमे support करें और www.capitalgyan.com को subscribe करें। 

धन्यवाद। 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

1 Comment
  1. Rahul says

    Hey Baddy. Maine Aap Ka Yeh Article Pura Padha Kaphi Accha Likha Gya Hai

Leave A Reply

Your email address will not be published.